...

नथ उतारना या नथ उतरवाई कौन सी रस्म होती है?

Guruji Suniltams

नथ उतारना या नथ उतरवाई कौन सी रस्म होती है? Nath Utrayi Details Traditions Sex Copulation Leaving Virginity First Time widow Family Tawaif

भारतीय संस्कृति में नथ या नाक की नथ उतारने की रस्म को “नथ उतारना” के नाम से जाना जाता है। यह एक औपचारिक प्रथा है जिसका पालन विवाहित महिलाएं विशेष रूप से भारत के कुछ क्षेत्रों और समुदायों में करती हैं। इस अनुष्ठान की सटीक उत्पत्ति सटीक रूप से प्रलेखित नहीं है, क्योंकि सांस्कृतिक प्रथाएं समय के साथ विकसित होती हैं और विभिन्न क्षेत्रों में भिन्न होती हैं। हालाँकि, इसका पता प्राचीन परंपराओं और रीति-रिवाजों से लगाया जा सकता है।

नथ उतारना या नथ उतरवाई कौन सी रस्म होती है?

भारतीय शादियों और वैवाहिक जीवन में नथ का सांस्कृतिक और प्रतीकात्मक महत्व है। यह आम तौर पर एक बड़ी, अलंकृत नाक की अंगूठी होती है जो कीमती पत्थरों, मोतियों या जटिल डिजाइनों से सजी होती है। नथ को दुल्हनें अपने विवाह समारोह के दौरान पहनती हैं और इसे वैवाहिक स्थिति, सुंदरता और शुभता का प्रतीक माना जाता है।

नथ उतारने की रस्म आम तौर पर विशिष्ट अवसरों पर या शादी की एक निश्चित अवधि के बाद होती है। इस प्रथा से जुड़े समय और रीति-रिवाज क्षेत्रीय रीति-रिवाजों, पारिवारिक परंपराओं और व्यक्तिगत मान्यताओं के आधार पर भिन्न हो सकते हैं। यहां कुछ उदाहरण दिए गए हैं जब नथ उतारने की रस्म हो सकती है:

1. विधवापन: कुछ समुदायों में, जब एक महिला विधवा हो जाती है, तो वह अपनी बदली हुई वैवाहिक स्थिति के प्रतीक के रूप में और शोक की अभिव्यक्ति के रूप में अपनी नथ उतार सकती है।

2. शादी के बाद की रस्म: कुछ परंपराओं में शादी के बाद एक विशिष्ट समय शामिल होता है जब दुल्हन अपनी नथ उतारती है। यह अवधि कुछ दिनों से लेकर महीनों या एक साल तक भी हो सकती है। यह दुल्हन के विवाहित जीवन में एक विशिष्ट चरण के पूरा होने का प्रतीक है और एक नए चरण में संक्रमण का प्रतीक है।

3. पारिवारिक रीति-रिवाज: नथ उतारने के समय और महत्व के संबंध में कुछ परिवारों के अपने रीति-रिवाज हो सकते हैं। ये प्रथाएँ पैतृक परंपराओं, सांस्कृतिक मान्यताओं या परिवार के बुजुर्गों के मार्गदर्शन से प्रभावित हो सकती हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सभी विवाहित महिलाएं नथ उतारने की प्रथा का पालन नहीं करती हैं। यह व्यक्तिगत पसंद, पारिवारिक परंपराओं और सांस्कृतिक पृष्ठभूमि के आधार पर भिन्न होता है। कुछ महिलाएं व्यक्तिगत पसंद के रूप में या अपनी सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने के तरीके के रूप में अपने पूरे विवाहित जीवन में नथ पहनना चुन सकती हैं।

नथ उतारने की रस्म भारतीय परंपराओं में गहराई से निहित है, जो प्रतीकों, रीति-रिवाजों और विवाह से जुड़े सांस्कृतिक महत्व पर जोर देती है। यह उन विविध रीति-रिवाजों और प्रथाओं की याद दिलाता है जो भारतीय संस्कृति को समृद्ध करते हैं और जीवन के विभिन्न चरणों में गहनों और श्रंगार के महत्व को उजागर करते हैं।

As Per Another Expert 

कुछ जातियोंं में वैश्यावृत्ति की प्रथा है।वहाँ लड़की जब जवान हो जाती है तो उसके प्रथम संभोग की बोली लगाई जाती है।जो अधिक बोली लगाता है उसको लड़की के साथ संभोग का अधिकार मिल जाता है।इसी को नथ उतारना कहते हैं।वैसे वधू को नथनी पहनाई जाती है जिसको उसका पति प्रथम रात्रि को उतारता है।वैश्या भी अपनी बेटियों की नथ नीलामी से उतरवाती हैं।

As Per Harishankar 

“नथ उतराई” वेश्यावृति के पेशे में पदार्पण की रस्म है । जब लड़की प्रथम बार किसी ग्राहक से संसर्ग करने के लिए राजी हो जाती है तो उसकी “बोली” लगती है । जो व्यक्ति अधिकतम मूल्य देने को तैयार होता है उस लड़की को उसका हमबिस्तर होना पड़ता है । यह व्यावसायिक क्रिया है , इसमें भलाई क्या और बुराई क्या ?

Nath Utrayi: Tawaifon ki Kahaniyan

Ek Kissebazi Ki Duniya

“Chandni, aa jao.” Aneesha ki awaaz ne mehfil mein ek nayi roshni bhar di. Uski nazrein sharm se jhuki hui thi, magar uska andaaz uski adaaon se kuch aur hi keh raha tha.

Chandni ek tawaif thi. Uski zindagi ka har pal kisse ki tarah tha, lekin har kahaani mein ek anokhi dastaan chhupi hoti thi. Uske nath utrayi hui kahaniyan har sunne wale ko apni jaal mein uljha deti thi.

Tawaifon ki duniya, jahan shabnam ki tarah unki adaayein chamakti thi, lekin andar chhupi gehraiyan kisi ko nahi dikhayi deti thi. In tawaifon ki kahaniyan sunne waale log unhein sirf naachne gaane wali samajhte thay, lekin unka dil aur unki zindagi ki haqeeqat se anjaan thay.

Roop Ki Rani

Roop, uska naam hi uski khoobsurati ka prateek tha. Uski kaanch se bani awaaz aur jadoo bhari adaaon ne har dil ko apni or kheencha. Magar uski kahani mein ek gehraai thi, jise sirf woh hi jaante the.

Roop ki roshni andhere mein hi chamakti thi, uski muskurahat mein hi dard chhupa hota tha. Uski zindagi ki kahani, nath utrayi hui, har lafz mein kuch alag hi gehraai chhupi hoti thi.

Umrao Ki Diary

Umrao, shayari ki misaal thi. Uski adaaon mein ek alag hi jazbaat ka jahan basa hua tha. Uski zindagi ki kahani uske shayariyon mein chhupi thi. Har ghazal uski zindagi ka ek naya pehlu dikhati thi.

Umrao ki diary, jismein usne apni zindagi ki kahani likhi thi, nath utrayi hui hamesha logon ko apni taraf kheenchti thi. Uski shayari mein chhupi hui dil ki baatein, dard aur pyaar ki kahaniyan har kisi ko apni taraf mohit kar leti thi.

Chandni, Roop, aur Umrao – Ek Jazbaat

In tawaifon ki kahaniyon mein ek jazbaat chhupa tha, jise sirf wohi samajh sakte thay jo inki rooh mein sama gaye thay. Inki nath utrayi hui kahaniyan na sirf unki zindagi ka ek hissa thi, balki ek poore samaaj ki tasveer bhi.

Har tawaif ki kahani, ek nayi seekh aur ek nayi soch laati thi. Inki zindagi ki kathinaiyon mein bhi ek alag roshni thi, jo humein insaniyat aur mohabbat ki gehraaiyon ko samajhne ki aur majboot karti thi.

Nath utrayi tawaifon ki kahaniyan, ek anmol viraasat hai, jo hamesha humein ek nayi disha aur ek nayi soch ki ore le jaati hai.

“Nath Utrayi” is a traditional term used in the context of courtesans or tawaifs in South Asian culture, particularly in the Urdu-speaking regions. It refers to the act of removing the nose ring (nath) as a symbol of a courtesan’s retirement from her profession or departure from the life of a courtesan.

In the world of courtesans, the nath holds significant symbolism. It is worn by courtesans as part of their attire and signifies their profession and status. When a courtesan decides to leave her profession or retire, she symbolically removes her nath, marking the end of her life as a courtesan.

The phrase “Nath Utrayi” literally translates to “the nose ring removed.” It symbolizes the transition or transformation in the life of a courtesan, often marked by various personal or societal reasons such as marriage, age, or a change in circumstances.

In storytelling or literature, “Nath Utrayi” is often used metaphorically to represent a significant turning point or transformation in a character’s life, particularly in the context of courtesan narratives. It signifies a departure from the old ways and the beginning of a new chapter.

विधवापन और नथ उतारने का प्रतीक

विधवापन, समाज में एक महिला के जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलू है। जब एक महिला अपने पति की मृत्यु के बाद अकेली हो जाती है, तो उसकी स्थिति में बदलाव होता है और वह समाज में एक विधवा के रूप में शामिल होती है। इस समय, वह अपने जीवन की नई यात्रा पर कदम रखती है, जो शोक, स्वतंत्रता और समर्थन की भरपूर खोज में होती है।

नथ, एक पारंपरिक रूप से, विवाहित महिलाओं के लिए एक प्रतीक है। यह उनकी वैवाहिक स्थिति, सम्मान और समाज में उनकी अवधारणा को दर्शाता है। जब एक महिला विधवा हो जाती है, तो वह अपने नथ को उतारकर इस परंपरा का अवलंबन छोड़ती है। इसके साथ ही, नथ उतारने से वह अपने शोक का प्रतीक भी बनाती है।

विधवापन और नथ उतारने के साथ, महिला एक नई जीवन की शुरुआत करती है। यह उसके लिए एक साहसिक कदम होता है जिसमें उसे अपने अपने नए संदेशों और सामाजिक दायरे को स्वीकार करना पड़ता है। नथ उतारने से, वह अपनी स्वतंत्रता और अपने नए जीवन के प्रति अपने नियमित विश्वास का प्रतीक बनाती है।

इस रूपरेखा में, विधवापन और नथ उतारने का प्रतीक है, जो एक महिला के जीवन के परिवर्तन का प्रतीक है और उसे उसके नए दिशा में एक नई शुरुआत के साथ संबोधित करता है।

शादी के बाद की रस्म: नथ उतारना

भारतीय सामाजिक संस्कृति में, शादी के बाद की रस्मों और परंपराओं का महत्वपूर्ण स्थान है। एक ऐसी परंपरा है जिसमें दुल्हन अपनी नथ उतारती है, जो उसके विवाहित जीवन के नए चरण की शुरुआत का प्रतीक होता है। यह रस्म दुल्हन के विवाहित जीवन की एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर मानी जाती है।

रस्म का मायना:

शादी के बाद की रस्म नथ उतारने की एक विशेष रस्म होती है, जिसमें दुल्हन अपनी नथ उतारती है। यह रस्म उसके विवाहित जीवन के प्रारंभिक दिनों में होती है और इसे समाज में एक बड़े आयोजन के रूप में मनाया जाता है। इस रस्म का अवधि कुछ दिनों से लेकर महीनों या एक साल तक भी हो सकता है, इसका आधार विभिन्न संस्कृतियों और क्षेत्रों के अनुसार भिन्न होता है।

महत्व:

  1. नया चरण का प्रतीक: नथ उतारना दुल्हन के विवाहित जीवन के नए चरण की शुरुआत का प्रतीक होता है। यह रस्म उसके लिए एक महत्वपूर्ण और संक्रमणकारी कदम होता है जो उसे उसके पति और परिवार के साथ एक नए जीवन के लिए तैयार करता है।
  2. समर्थन और सम्मान: इस रस्म में दुल्हन को अपने परिवार और समाज का समर्थन और सम्मान प्राप्त होता है। यह उसे एक सशक्त महिला के रूप में स्वीकार किया जाता है जो अपने विवाहित जीवन के लिए साहसिक और सजीव होती है।

समाप्ति:

शादी के बाद की रस्म नथ उतारना एक संस्कृतिक प्रक्रिया है जो दुल्हन के जीवन में एक महत्वपूर्ण स्थान रखती है। यह रस्म उसके विवाहित जीवन के नए प्रारंभिक चरण की शुरुआत का प्रतीक होती है और उसे उसके नए रोल में सम्मान और सहयोग प्रदान करती है।

पारिवारिक रीति-रिवाज: नथ उतारने का महत्व

पारिवारिक रीति-रिवाज हर समाज के आधार होते हैं, जो उसके सदस्यों को सांस्कृतिक और सामाजिक रूप से जोड़ते हैं। नथ उतारने की रस्म भी इसी श्रेणी में आती है, और यह परिवार के रीति-रिवाज और मान्यताओं के अनुसार विभिन्न तरीकों से मनाई जाती है।

पैतृक परंपराएँ:

कई परिवारों में, नथ उतारने का समय और महत्व पैतृक परंपराओं पर निर्भर करता है। ये परंपराएँ पिछली पीढ़ियों से चली आ रही होती हैं और परिवार के धार्मिक और सांस्कृतिक धारावाहिक का हिस्सा बनती हैं। इसमें नथ उतारने की रस्म का समय और तरीका निर्धारित किया जाता है।

सांस्कृतिक मान्यताएं:

कई समाजों में, नथ उतारने की रस्म को सांस्कृतिक मान्यताओं के अनुसार महत्व दिया जाता है। यह रस्म उस समय मनाई जाती है जब दुल्हन अपने विवाहित जीवन के नए चरण की शुरुआत करती है और उसके लिए सांस्कृतिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण होती है।

परिवार के बुजुर्गों के मार्गदर्शन:

अक्सर परिवार के बुजुर्गों की सलाह और मार्गदर्शन नथ उतारने की रस्म को निर्धारित करते हैं। उनके अनुभव और ज्ञान के आधार पर, इस रस्म को समय, तिथि, और तरीके के साथ मनाया जाता है।

महत्व:

पारिवारिक रीति-रिवाज न केवल एक परिवार के विवाद और संघर्ष को संबोधित करते हैं, बल्कि वे उसकी सामाजिक और सांस्कृतिक विरासत को भी बनाए रखते हैं। नथ उतारने की रस्म भी इसी विरासत का हिस्सा है, जो एक परिवार के सदस्यों के लिए उनकी पारंपरिक और सांस्कृतिक जड़ों का प्रतीक होती है। इसे परिवार के एकता और समर्थन का प्रतीक माना जाता है।